उचित मनोवृत्ति के लिए क्रियायोग का करें अभ्यास : श्री श्री स्वामी चिदानंद जी

कोलकाता : महामारी का दुष्प्रभाव झेलने के बाद उतार-चढ़ाव वाले अराजक और सनकी माहौल वाले संसार में, जहां लोग निरंतर परिवर्तन और असुरक्षा में जी रहे हैं, आंतरिक शांति चाहने वालों के लिए परमहंस योगानंद द्वारा दिया गया क्रियायोग ही अंतिम शरणस्थल (उपाय) है। योगदा सत्संग सोसाइटी ऑफ इंडिया और सेल्फ रियलाइजेशन फेलोशिप (वाईएसएस/एसआरएफ) के […]

Continue Reading